रातो रात मुँहासों और पिम्पल्स से छुटकारा

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

आज में आपको यह बताने वाली हूँ की पिंपल कैसे हटाएँ (how to remove pimple in hindi)? दोस्तों चेहरे में लगातार पिंपल बढ़ना एक बार पिंपल खत्म होने के बाद दुबारा पिंपल वापस आ जाना कही न कही आपके द्वारा की गयी कुछ गलतियों की तरफ इशारा करती है। खासकर पिंपल की परेशानी में खाना-पान और चेहरे पे लगाए जाने वाली चीज़ो का ख्याल रखा जाता है। उसी तरह कुछ गलतियों का सुधार करना जरूरी होता है।

आज के इस पोस्ट हम कुछ ऐसी पाँच बाते बताने वाले है। जिसमे हम जानेगे की कौन-कौन सी गलती है जो हमारे पिंपल को बद से बदतर बना देती है। तो कुछ गलती हम आपको बतायेंगे वह सुनने में तो साधारण लगती है लेकिन माने की अगर आप इसमें से एक भी गलती को लगातार करते है तो यह पिंपल की प्रॉब्लम को काफी हद तक बढ़ाता है। इसमें आप सुबह से उठने से रात के सोने तक जो गलती करते है। वह हम बारी-बारी से जानेंने की कोशिश करेंगे। पिंपल को बढ़ाने की कुछ ऐसी भी गलतियाँ होती है। जिसे लोग कभी-कभी करते है।

पिम्पल्स होने के कारण

  • सो कर उठते ही पिंपल वाले लोगो में ज्यादातर लोग जो सबसे बड़ी गलती करते है। वह है चेहरा छूना जैसे आपको पता ही होगा हमारे कई तरह के बैक्टीरिया होते है लेकिन सोते समय न चाहते हुए भी लम्बे समय तक हाथ नहीं धोया जाता। जिससे की हाथो में मौजूद बैक्टीरिया चेहरे पर त्वचा को छू कर उसे काफी हद तक ख़राब कर सकता है इसलिए जरुरी है। सुबह उठने के बाद चेहरे को छू ने से पहले हाथो को अच्छी तरह से धो लेना चाहिए।
  • चेहरे को छूते समय लोग पिंपल को दबाने और फोड़ना शुरू कर देते है। जो की पूरी तरह एक गलत तरीका है क्योकि पिंपल दबाने से वह बहार ही नहीं बल्कि त्वचा में भी फूटता है और साथ ही साथ फूटने के बाद एक रास्ता बन जाता है। जिसके जरिए बहार मौजूद बैक्टीरिया आसानी से त्वचा के अंदर परवेश कर के और भी ज्यादा बढ़ जाते है। जिससे पिंपल चेहरे के दूसरे हिस्से में भी तेज़ी से फैलने लग जाता है इसलिए हर हाल में पिंपल दबाने और फोड़ने से बचना चाहिए।
  • ज्यादातर लोग तनाव साधारण समझने लगते है। जब सुबह उठने के बाद शीशा देखते ही अक्सर लोग अपने चेहरे की प्रॉब्लम को देखकर बहुत ही ज्यादा सोचने और चिंता करने लगते है और जब कोई व्यक्ति किसी भी बारे में बहुत ज्यादा सोचता है या फ़िक्र करता है।
  • तो हमारे शरीर में कोटिसूल नाम का स्ट्रेस हार्मोन काफी मात्रा में होने लगता है। जो की ऑयली त्वचा में मुहाँसो और पिंपल को बद से बत्तर बनाता है इसलिए यहाँ समझने वाली बात यह है की किसी भी प्रॉब्लम के बारे में बहुत ज्यादा सोचने और चिंता करने से भी वह प्रॉब्लम एक परसेंट भी सही नहीं होती बल्कि कई गुना बढ़ जाती है इसलिए ऐसे में जरुरी है की टेंशन से बचने की कोशिश करे बहुत ज्यादा समय अकेले न बिताये और मेडिटेशन और रिलैक्स करे।
  • दांतो और मसूड़ों पे जमी गंदगी हमारे भोजन और स्वाशतंत्र पर भी बुरा असर करता है क्योकि मुँह पे लगी गंदगी हमारे पेट में पहुँचती है और वह से यह हमारे शरीर के दूसरे हिस्से में फेल जाता है इसलिए मुँह की गंदगी का भी अच्छी तरह ध्यान रखे।
  • चेहरे पर पिंपल की प्रॉब्लम है। तो चेहरा धोने में ज्यादा साभधानी का ख्याल रखना चाहिए। सबसे पहले तो चेहरे धोने के लिए फेसवाश(facewash) इस्तमाल करना चाहिए। जो आपकी त्वचा लिए सही हो क्योकि अगर आप गलत तरीके का फेसवाश लेते है। तो चाहे वह दूसरे की त्वचा लिए कितना भी सही हो लेकिन वह आपकी त्वचा को कई हद तक नुक्सान पहुँचाता है। साथ ही साथ यह भी ख्याल रखना जरुरी है की मुहाँसे और पिंपल ज्यादातर ऑयली त्वचा में ही होते है। इसलिए आपको जेल(gel) फॉर्म में मिलने वाले फेसवाश ही इस्तमाल करे क्योकि ज्यादातर इसी तरह के फेसवाश पिंपल और मुहाँसो के लिए सही होता है और कोशिश करे जितने भी आप फेसवाश इस्तमाल करे वह केमिकल फ्री हो ।

पिम्पल्स क्यों होते है

दूनिया में 80 %लोगो को किशोरअवस्था में थोड़े बहुत या बहुत ज्यादा पिंपल हो ही जाते है इस पोस्ट में बहुत आसान तरीके से पिंपल का प्रबंध और इलाज बता रही हूँ। इसके साथ ही पिंपल के बाद जो लाल और काले दाग चेहरे पर रह जाते है। उनका इलाज भी बताऊँगी। 15 से 30 साल की उम्र में शरीर की हार्मोन मात्रा बढ़ने से हमारी त्वचा का तेल ग्रंथि में ज्यादा तेल बनने लगते है। तेल और मृत त्वचा कोशिकाये(dead skin cell) इखट्टा हो के हमारे चेहरे शरीर के छेद को बंद कर देते है। जो फुल कर ब्लैकहेड्स(blackhead) और व्हाइटहेड(whitehead) त्वचा के ऊपर दिखने लगते है। जब बैक्टीरिया आयल ग्रंथि( oil gland) के अंदर जा के इनको इफ़ेक्ट कर देते है। तब वह पिंपल बन जाते है। स्टेरॉयड (steroids) इलाज और गर्भ निरोधक दवाइयों से हमारे शरीर में हार्मोनल इम्बैलेंस होता है और किसी भी उम्र में पिंपल बनने लगते है। खाने की चीज़ो में दूध और दूध से बने पदार्थ जैसे मिठाईयाँ मिल्क, चॉकलेट , रिफाइंड, आटेऔर तेल से बने केक पेस्ट्री,पिज़्ज़ा,आदि भी पिंपल को बढ़ावा देता है। आजकल तनाव और उसके कारण होने वाला हार्मोनल इम्बैलेंस भी पिंपल (pimple) होने का एक बड़ा कारण बन गया है।

पिम्पल्स के लिए दवाईयाँ

त्वचा में तेल का बनना कम करना और मृत त्वचा कोशिकाओं के सफाई करना और त्वचा को बैक्टीरियल इन्फेक्शन सूजन या इंफ्लमैशन (inflammation) से बचाना इसके लिए हम तीन तरीके की क्रीम और जेल का इस्तमाल करते है।

  • रेटिनॉइड्स (Retinoids cream)
  • आड़पलेने (adapalene gel)
  • बेंजॉल (benzol cream)

इसे भी पढ़े – यह सारी दवाइयाँ आपको chemist की दुकान से आसानी से मिल जायँगी यह जेल और क्रीम त्वचा में तेल के मात्रा को कम करते है और लोचदार ऊतक(elastic tissue) को बनने में मदद करते है और त्वचा से मृत त्वचा कोशिकाओं (dead skin cell) को भी साफ़ करते है।

पिम्पल के लाल निशानों का इलाज

पिंपल ठीक होने के बाद ऊपर से जो लाल धब्बे रह जाते है। उनके बारे में बता रही हूँ। यह देखने में बहुत बुरे दिखते है लेकिन हाथ लगाने से त्वचा स्मूथ ही महसूस होती है और ऊचीं नीची नहीं होती है।

सनस्क्रीन

धुप से बचाव (sun protection) जब त्वचा मुँहासों से सही ही हो रही है। तब धुप में नहीं घूमना चाहिए और बहार निकलने के पहले एक सूटेबल सनस्क्रीन(sunscrean) का इस्तमाल जरूर करना चाहिए। जिन लोगो को सनस्क्रीन(sunscream) सूट नहीं करता। वह लोग ओलिव(olive) या नारियल का तेल भी अच्छी तरह त्वचा में लगाएंगे तो आपकी त्वचा नहीं जलेगी।

विटामिन C सीरम

विटामिन C सीरम यह एक बहुत अच्छा anti oxidant and anti inflammatory सीरम है। यह त्वचा के काले दाग धब्बे हटाने में सहायता करता है। पिंपल ठीक होने के बाद यदि आप इसको रोजाना रात को मुँहासों के दाग पर लगा कर सोयेंगे तो त्वचा जल्दी उभरेगी और दाग भी जल्दी ठीक होंगे लेकिन एक बात ध्यान में रखे। जब आप विटामिन C सीरम की बोतल खोलते हो तो उसके बाद उसको फ़्रिज में ही रखना है और बाहर नहीं छोड़ना है। इस क्रीम को सिर्फ रात में लगाना चाहिए क्योकि दिन के समय लगा कर नहीं निकलना चाहिए। सूरज की रौशनी लगने से विटामिन C नस्ट हो जाता है इसलिए विटामिन C को दिन में लगाकर बिलकुल नहीं जाना चाहिए।

Aziderm क्रीम

Aziderm cream यह पिम्पल को ठीक करता है। त्वचा का कलर साफ़ करता है और साथ ही साथ रिंकल को भी ठीक करता है। इसके अलावा कई क्लिनिक और डॉक्टर आपको केमिकल पील और डर्मारोलर को भी इस्तमाल करने को कहते है लेकिन यह ट्रीटमेंट आप अपने किसी अच्छे क्लिनिक या अच्छे डॉक्टर के एक्सपर्ट ट्रीटमेंट से ही करवाए तो अच्छा रहेगा।


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *